जियोग्राफिक इन्फोर्मेशन सिस्टम: भारत का भू-स्थानिक ऊर्जा मानचित्र (GIS) लॉन्च किया गया

जियोग्राफिक इन्फोर्मेशन सिस्टम- भारत का एनर्जी मैप लॉन्च

भारत का एनर्जी मैप: जियोग्राफिक इन्फोर्मेशन सिस्टम (GIS) आधारित भारत का ऊर्जा मानचित्र नीति आयोग द्वारा 18 अक्टूबर, 2021 को लॉन्च किया गया था।

भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (इसरो) के सहयोग से और केंद्र सरकार के ऊर्जा मंत्रालयों के सहयोग से नीति आयोग द्वारा भू-स्थानिक ऊर्जा मानचित्र विकसित किया गया है।

जियोग्राफिक इन्फोर्मेशन सिस्टम- GIS मैप क्या है?

भारत का GIS आधारित एनर्जी मैप (जियोग्राफिक इन्फोर्मेशन सिस्टम) देश के सभी ऊर्जा संसाधनों की समग्र तस्वीर प्रदान करेगा। यह पारंपरिक बिजली संयंत्रों, पेट्रोलियम रिफाइनरियों, तेल और गैस के कुओं, कोयला क्षेत्रों और कोयला ब्लॉकों और अक्षय ऊर्जा बिजली संयंत्रों पर जिले-वार डेटा सहित पूरे भारत में ऊर्जा प्रतिष्ठानों के दृश्य को सक्षम करेगा। इसमें कई स्रोतों से डेटा की 27 परतें शामिल होंगी।

उद्देश्य

मानचित्र का मुख्य उद्देश्य किसी देश में ऊर्जा उत्पादन और वितरण का एक व्यापक दृष्टिकोण प्रदान करने के लिए उनके परिवहन/ट्रांसमिशन नेटवर्क के साथ-साथ ऊर्जा के सभी प्राथमिक और माध्यमिक स्रोतों की पहचान करना और उनका पता लगाना होगा।

नक्शा कई संगठनों में बिखरे हुए ऊर्जा डेटा को एकीकृत करेगा और इसे समेकित और अधिक आकर्षक और ग्राफिकल रूप में प्रस्तुत करेगा।

नीति आयोग के उपाध्यक्ष डॉ राजीव कुमार के अनुसार भू-स्थानिक एनर्जी मैप (जियोग्राफिक इन्फोर्मेशन सिस्टम) एक महान शोध उपकरण हो सकता है। उन्होंने कहा कि इससे ऊर्जा क्षेत्र में डेटा उपलब्धता में सुधार के लिए नीति आयोग के प्रयासों में इजाफा होगा।

ये भी पढ़े: पहली बार, पृथ्वी को सौर मंडल के बाहर से रेडियो सिग्नल मिले- किसने भेजा होगा ये सिग्नल?

भारत के GIS आधारित एनर्जी मैप को कैसे देखे?

जियोग्राफिक इन्फोर्मेशन सिस्टम इस वेबसाइट – vedas.sac.gov.in/energymap/ के माध्यम से भारत के भू-स्थानिक एनर्जी मैप तक पहुँचा जा सकता है

ये भी पढ़े: सैटेलाइट इंटरनेट क्या है, और यह उस दुनिया को कैसे बदलेगा जिसमें हम रहते हैं?

मुख्य लाभ

भारत का भू-स्थानिक एनर्जी मैप वेब-जीआईएस (जियोग्राफिक इन्फोर्मेशन सिस्टम) प्रौद्योगिकी और ओपन-सोर्स सॉफ्टवेयर में नवीनतम प्रगति का उपयोग इसे इंटरैक्टिव और उपयोगकर्ता के अनुकूल बनाने के लिए करेगा।

यह वित्तीय संस्थानों के लिए नीति विकास और योजना और निवेश मार्गदर्शन में उपयोगी होगा और उपलब्ध ऊर्जा संपत्तियों का उपयोग करके आपदा प्रबंधन में सहायता करेगा।

डॉ राजीव कुमार के अनुसार, भारत के ऊर्जा क्षेत्र की वास्तविक समय और एकीकृत योजना सुनिश्चित करने के लिए ऊर्जा परिसंपत्तियों की जीआईएस मैपिंग उपयोगी होगी। उन्होंने कहा कि ऊर्जा बाजारों में दक्षता हासिल करने की अपार संभावनाएं हैं और जीआईएस आधारित मैपिंग (जियोग्राफिक इन्फोर्मेशन सिस्टम) सभी संबंधित हितधारकों के लिए फायदेमंद होगी और नीति निर्माण की प्रक्रिया को तेज करने में मदद करेगी।

डॉ राजीव कुमार ने ट्वीट किया, “भू-स्थानिक ऊर्जा मानचित्र @NITIAayog और @ISRO का एक संयुक्त प्रयास है, जिसका उद्देश्य साक्ष्य-आधारित ऊर्जा क्षेत्र के लिए नीतियों के निर्माण और मूल्यांकन में सहायता के लिए एक समग्र, व्यापक सूचना प्रणाली को सक्षम करना है।”

इसरो के अध्यक्ष के सिवन के अनुसार, भू-स्थानिक ऊर्जा मानचित्र 27 विषयगत परतों के स्थिर डेटा के विज़ुअलाइज़ेशन सहित संपूर्ण ऊर्जा की एक समग्र तस्वीर प्रदान करता है, साथ ही गतिशील डेटा के साथ-साथ इंटरैक्टिव और उपयोगकर्ता के अनुकूल नक्शा नेविगेशन भी शामिल है।

नीति आयोग के सीईओ अमिताभ कांत ने कहा, “भू-स्थानिक ऊर्जा मानचित्र, भू-स्थानिक क्षेत्र के उदारीकरण के तहत हमने जो योजना बनाई है, उसका पहला उदाहरण है।”

उन्होंने आगे कहा, “@ISRO के साथ साझेदारी सहयोग के माध्यम से अद्वितीय परिणाम देने की हमारी क्षमता को दर्शाती है। यह जीआईएस पर काफी हद तक लागू होता है।”

Source link

 

Leave a Comment